Poetry


आज तारों की छाओं में बैठे कुछ पुराने दिन याद आ गए…

गाने के दिन, गुनगुनाने के दिन,
किताबों में अर्सों बिताने के दिन,
तारे में रातें जगाने के दिन…

आज दिन तो है , पर तारे नही हैं आस्मान में
… या शायद उन्हें देखने की फुरसत नही है,
किताबें भी हैं , गाने भी हैं,
…मगर गुनगुनाने की फुरसत नही है…

Advertisements

How does one say goodbye?

How does one know, that goodbye is what it is?
That this moving on, is for better, that is…

How does one fly?
Soaring is a powerful thing,
But how does one soar on weakened wings?

The road lies before me again,
Its the same that followed me too..
The same road, the same mind,
What goes forward, who stays behind?

Tell me… how does one say goodbye?

Just read some completely awesome poetry by Gulzar here and got inspired. Although I think this poem is very simplistic compared to what he writes, I just couldn’t help but write something based on his style ( I hope) myself!

किसी और सदी की बात ही थी

वो रात का चाँद

वो चाँद की रात

अब तो बस दिन ही दिन ही हैं

ना पहले जैसी कोई बात,

हम चाँद सितारे ढूँढ़ते हैं, हर दिन के ढल जाने के बाद,

हर दिन के आख़िर में फिर से, जुड़वाँ सा दिन मिल जाता है